Take a fresh look at your lifestyle.

कर्नाटक में राजनीतिक गतिविधियां तेज, भाजपा पर जोड़-तोड़ की राजनीति का आरोप

भाजपा प्रतिनिधिमंडल आज राज्‍यपाल और विधानसभा अध्‍यक्ष से मिलेगा।

सत्य संग्राम। लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कर्नाटक में कांग्रेस–जनता दल-सेक्‍यूलर सरकार को अस्थिर करने के लिए भाजपा पर जोड़-तोड़ की राजनीति का आरोप लगाया। जवाब में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि कर्नाटक की वर्तमान राजनीतिक उथल-पुथल से केन्‍द्र का कोई लेना देना नहीं है। उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस अपने घर को ठीक रखने में असफल रही है और इस मुद्दे पर लोकसभा की कार्यवाही में बाधा डाल रही है।

आपको बता दें कि जनता दल-सेक्‍यूलर, कांग्रेस और भाजपा अपनी आगे की रणनीति तय करने में लगे हैं। गठबंधन सरकार को बचाने का हर प्रयत्‍न जारी है। कांग्रेस वरिष्‍ठ नेता गुलाम नबी आजाद आज बेंगलुरु पहुंचे हैं और डी के शिवकुमार कल सुबह मुंबई में इस्‍तीफा दिए विधायकों से मुलाकात करने जा रहे हैं।

वहीं विधानसभा अध्यक्ष ने कहा है कि विधानसभा से त्‍यागपत्र देने वाले 13 असंतुष्‍ट विधायकों में से केवल पांच विधायकों का त्‍यागपत्र सही प्रारूप में पाया गया है। उन्‍होंने बताया कि इन विधायकों को अपना पक्ष रखने के लिए आगामी शुक्रवार और सोमवार को उपस्थित होने के लिए कहा गया है। आज बेंगलूरू में उन्‍होंने बताया कि अन्‍य आठ विधायकों को अपना त्‍यागपत्र सही प्रारूप में देने के लिए कहा गया है।

आपको बता दें कि विधायकों की बैठक के बाद बीजेपी नेता अ‍रविंद लिम्बावली ने बताया कि कल दोपहर को वह राज्यपाल से मिलकर अल्‍पसंख्‍यक सरकार को बर्खास्‍त करने की मांग करेंगे। उसके बाद वह सभा अध्‍यक्ष से मिलकर विधायकों के इस्‍तीफे को तुरंत मंजूरी देने की मांग करेंगे। सुबह विधानसभा के पास महात्मा गांधी की प्रतिमा के आगे बीजेपी विधायक, मुख्‍यमंत्री के इस्‍तीफे की मांग करते हुए धरना भी करेंगे।

संसद के दोनों सदनों में आज कर्नाटक की स्थिति को लेकर शोरशराबा हुआ। राज्‍यसभा की कार्यवाही कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस के सदस्यों के हंगामे के कारण दिनभर के लिए स्थगित कर दी गई। विधानसभा अध्‍यक्ष ने बताया कि उन्‍होंने राज्‍यपाल को पत्र लिखकर कहा है कि वे इस मामले में लोगों के हितों को ध्‍यान में रखते हुए संविधान के अनुसार काम करेंगे।

इस बीच, विधानसभा अध्‍यक्ष विधायकों को सदन की सदस्‍यता से अयोग्‍य घोषित करने के प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पत्र पर बृहस्‍पतिवार को विचार करेंगे। उन्‍होंने बताया कि कुछ लोगों ने त्‍यागपत्र खारिज करने की मांग की है, जिस पर विचार करने की तारीख तय की जाएगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.